Astro Articles

अथ अरिष्टदा ग्रहस्थितिः || Astro Classes, Silvassa.







अथ अरिष्टदा ग्रहस्थितिः |



विलग्नगतस्त्वपि देवमन्त्री विनाशरिःफारिगते शशाङ्के |

विलोकिते पापवियचरेण विभानुना मृत्युमुपैति ग्र||||ः ||४||



गण्डान्ततारासहिते मृगाक्के पापेक्षिते पापसमन्विते वा |

बालो लयं यति समृत्युभागे चन्द्रे तथा पापनिरीक्षिते वा ||५||



ताताविकासोदरभातुलाश्च मातामही मातृपता च बालः |

सूर्यादिकैः पङ्चमधर्मयातैः क्रूरर्क्षगैराशु हताः क्रमेण ||६||



रसातलस्थौ यदि भानुचन्द्रौ शनिः स्मरस्थो मरणाय मातुः |

यदा यदा क्रूरखगो विलग्नादरातिगः सोदरनाशहेतुः ||७||

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.