शनिवार व्रत की आरती ।। SHANIVAR VART KI AARTI. Astro Classes.

शनिवार व्रत की आरती ।। SHANIVAR VART KI AARTI. Astro Classes, Silvassa.

चार भुजा तहि छाजै, गदा हस्त प्यारी ।। जय ०
रवि नंदन गज वंदन,यम अग्रज देवा ।।

कष्ट न सो नर पाते, करते तब सेना ।। जय ०
तेज अपार तुम्हारा, स्वामी सहा नहीं जावे ।।

तुम से विमुख जगत में,सुख नहीं पावे ।। जय ०
नमो नमः रविनंदन सब ग्रह सिरताजा ।।

बंशीधर यश गावे रखियो प्रभु लाज ।। जय ०

शनिवार व्रत की विधि इस प्रकार है ।।

इस दिन शनि की पूजा होती है ।।
काला तिल, काला वस्त्र, तेल, उड़द शनि को बहुत प्रिय है ।।
शनि की पूजा भी इनके द्वारा की जाती है ।।
शनि की दशा को दूर करने के लिए यह व्रत किया जाता है ।।
शनि सत्रोत का पाठ भी विशेष लाभदायक सिद्ध होता है ।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.