Tantra Totake

गर्भ धारण का सहज उपाय, सन्तान प्राप्ति के कुछ अचूक टोटके ।।



गर्भ धारण का सहज उपाय, सन्तान प्राप्ति के कुछ अचूक टोटके ।। Some Efeective Tricks To Get a Child.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, आचार्य चाणक्य ने कहा है - न पुत्रसंस्पर्शात्परं सुखं ।। अर्थात कहीं से आप थके-हारे हुए आयें और आपका पुत्र दौड़ते हुए पिताजी-पिताजी कहता हुआ गले लग जाय, तो इससे बड़ा इस संसार में कोई अन्य सुख नहीं है । परन्तु अगर किसी भाई को कोई सन्तान ही न हो तो उसकी पीड़ा आप अनुभव कर सकते हैं ।।   तो आइये मित्रों, आज मैं तन्त्रसार के कुछ ऐसे अचूक टोटके बताते है, जिसे कोई भी औरत अपने उपर आजमा सकती है । गर्भ धारण के उपाय को करने के उपरान्त अपने पति से गर्भ धारण के निमित्त समागम करें । भगवान ने चाहा तो आपको एक सुन्दर-सुशील पुत्र की प्राप्ति बहुत जल्द ही पूर्ण हो जाएगी ।।   अब आपको करना ये है, कि मंगलवार के दिन किसी कुम्हार के घर जायें । कुम्भार भाई से प्रार्थना करके मिट्टी को काटने वाला सूत मांगें और उसे घर ले आएं । उसके उपरान्त उस सूत को किसी गिलास (एक पात्र में) में जल भरकर उसमें डाल देवें ।  कुछ समय पश्चात डोरे को निकालें और उस जल को पति-पत्नी दोनों मिलकर आधा-आधा पी लें ।।

मित्रों, यह क्रिया कोई भी नि:सन्तान दम्पत्ति कर सकता है । परन्तु एक बात का ध्यान रखें की ये केवल मंगलवार को ही करना है । इस क्रिया को करने के बाद उस दिन पति-पत्नी अवश्य ही समागम करें । आपको कुछ ही दिनों में एक ख़ुशी से भरपूर समाचार प्राप्त होगा । जैसे ही आपको खुशखबरी प्राप्त गर्भ ठहरने की उस सूत को श्रीहनुमानजी के चरणों में रख आयें ।।  मित्रों, राहु आपकी कुण्डली के पांचवें घर में हो और संतान सुख में बाधा हो रही हो । ऐसी स्थिति में राहु के दोष को दूर करने के लिए घर के मुख्य दरवाजे के नीचे चांदी का पत्तर रखना चाहिए । अगर आप यह काम नहीं कर पाते हैं तो 40 दिनों तक पांच हरी-ताज़ी मूली पत्नी के सिरहाने रखें और सुबह मूली को शिव मंदिर में दान कर दें । इस टोटके को करने से संतान प्राप्ति की संभावना 90% तक बढ़ जायेगी ।।

अपनी कुण्डली के छठे भाव से आसानी से अपने जीवन में होनेवाले रोगों के विषय में हम जान सकते हैं । छठे भाव से रोग होने के समय किस उम्र में होने की सम्भावना है ? जानिए इस विडियो टुटोरियल में - Click Here to Watch Video.   वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।


बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.