Tantra Totake

किसी विशिष्ट मनोकामना पूर्ति हेतु दीपावली की रात को करें कुछ अचूक तांत्रिक सिद्धि ।।

किसी विशिष्ट मनोकामना पूर्ति हेतु दीपावली की रात को करें कुछ अचूक तांत्रिक सिद्धि ।। Tantrik Siddhi for Dipavali Night in Vishisht Manokamna.

 Happy Dipavali.
हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,


मित्रों, दीपावली की रात को शास्त्रानुसार महानिशा माना गया है । दिवाली की रात पर किए गए टोने-टोटके, तंत्र-मंत्र प्रयोग अपनी पूर्ण शक्ति से काम करते हैं । इसीलिए इस दिन तंत्र सिद्धि का विशेष रात्री माना गया है । आप भी इस रात्री को कुछ अत्यन्त ही सरल एवं साधारण परन्तु बहुत ही प्रभावी प्रयोग करके अपनी सम्पूर्ण इच्छाओं को पूर्ण कर सकते हैं ।।



दीपावली को दिन में पीपल के पाँच पत्तों को भावपूर्वक तोड़कर घर लायें । रात में माता महालक्ष्मी का पूजन करने के उपरान्त उन पीपल के पत्तों पर दूध से बना कोई भी मिष्ठान रखें । उसके बाद उन पत्तों को मिष्टान्नों के साथ उसे उसी पीपल के पेड़ को अर्पित कर देवें । मित्रों, पूर्ण विश्वास के साथ अपनी इच्छा कहें, आपका कार्य अवश्य पूरा हो जायेगा ।।



मित्रों, एक विशेष कार्य आपको अवश्य करना चाहिये और वो ये है, कि दीपावली के दिन अपने पूर्वजों को अवश्य याद करें । दिन में उनका तर्पण कर किसी भूखे गरीब व्यक्ति को भोजन करवायें । आपके सभी अटके कार्य उसी दिन से पूरे होने लगेंगे । रात्री को मां लक्ष्मी की पूजा में इत्र तथा केसर अवश्य चढ़ायें ।।



चढ़ाये हुये केशर और इत्र को सम्भाल कर रखें और अगले दिन से प्रतिदिन इस केसर का तिलक लगायें । उस इत्र को जब भी घर से निकलें अपने कपड़ों पर लगाकर निकलें इससे आपका आकर्षण बढ़ेगी जिससे आपकी आर्थिक समृदि्ध दिन दूनी रात चौगुनी बढ़ने लगेगी और आप अपने जीवन में होनेवाले परिवर्तन को स्वयं अनुभव करेंगे ।।



मित्रों, अगर आप अपना खुद का घर बनवाना अथवा खरीदना चाहते हैं और वो एक सपना बनकर रह गया है । अगर आपका ये सपना पूरा नहीं हो पा रहा है तो दीपावली के दिन किसी भूखे को एवं गाय को मीठा भोजन कराएं । ये कार्य प्रत्येक शुक्रवार को भूखे को भोजन एवं रविवार को गाय को गुड़ खिलायें । इस प्रयोग से एक ही वर्ष के अन्दर ही आपका खुद का मकान होगा ।।



व्यापार में तरक्की अथवा प्रमोशन के लिये दीपावली की रात को "कच्चा सूत" "शुद्ध केसर" से रंग लें । भाई दूज को मां लक्ष्मी का स्मरण करते हुए अपने दुकान अथवा व्यापारिक प्रतिष्ठान में बांध दें, निश्चित ही अकल्पनीय तरक्की होगी । जो लोग नौकरी करते हैं वे इस धागे अपने टेबल, अलमारी अथवा कम्प्यूटर में बांध दें, आपका भाग्य तत्क्षण चमक उठेगा ।।



सरसों के तेल से दरिद्रता मिटती है तथा भूत-प्रेत आदि की बाधाएं शांत हो जाती है । केवल दीवाली के दिन सरसों के तेल का दीप जलायें परन्तु बाकि दिन घर के पूजास्थल ऐसा दीपक कदापि ना जलायें । यह तामसी प्रवृत्ति का माना जाता है और घर में जिन्न तथा अन्य तामसिक शक्तियों का इससे स्थाई निवास हो सकता है ।।



मित्रों, घर के क्लेश को दूर करना हो तो दीपावली के दिन मां लक्ष्मी के पूजन के बाद 2 गोमती चक्र लेकर एक डिब्बी में सिंदूर बिछा कर उस पर रख दें । इसके बाद डिब्बी को बंद करके घर के किसी ऎसे एकांत स्थल पर रख दें, जहां किसी की नजर ना पड़े । ध्यान रहें इस प्रयोग के बारे में किसी को भूलकर भी नहीं बताना है, घर में शीघ्र ही शांति हो जाएगी ।।



दीपावली की रात को व्यापारीगण अपने दुकान-प्रतिष्ठान पर पूजा करने जाते समय शुद्ध केसर मिला मीठा दही खाकर घर से निकलें उसके बाद ही मां लक्ष्मी का पूजन करें तो व्यापार में अद्भुत लाभ होती हैं । रात्री को लक्ष्मी की पूजा करने के बाद ग्यारह से एक बजे के बीच मां लक्ष्मी के महामंत्र "ह्रीं क्लीं महालक्ष्म्यै नम:" का कमलगट्टे अथवा स्फटिक की माला से जप करें ।।



दीपावली की पूजा करने के बाद मां लक्ष्मी की प्रतिमा के सामने बैठ कर श्रीसूक्त का पाठ करें । यदि संभव हो तो इन ऋचाओं से हवन भी करें इससे घर में हर प्रकार की समृदि्ध आती हैं । पूजा में अपने कार्य-व्यापार से संबंधित चीजें अवश्य रखें । जैसे व्यापारी लोग अपने बही-खाते, कलम, सोने-चांदी के आभूषण तथा विद्यार्थी लोग अपने पुस्तकें तथा कॉपी रखें ।।


==============================================






==============================================






==============================================












बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.