Astro Articles

पति-पत्नी के जीवन में तलाक के योग एवं इसका सहज इलाज ।।



पति-पत्नी के जीवन में तलाक के योग एवं इसका सहज इलाज ।। Divorce Yoga and to prevent.
हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, अपने वैवाहिक जीवन में कौन इन्सान सुखी नहीं रहना चाहता, अर्थात् सभी अपने सुखी वैवाहिक जीवन को शान्तिप्रिय बनाने का प्रयत्न करते है और अपने जीवन में शान्ति चाहते हैं ।। परन्तु चाहकर भी ऐसा नहीं हो पाता और जीवन में विखराव आ ही जाता है । ज्योतिष के अनुसार इसका मुख्य कारण शुक्र एवं राहू की युति मानी गयी है । किसी की कुण्डली में अगर ये युति हो तो जातक का अपनी पत्नी के अलावा अन्य स्त्री से सम्बन्ध हो सकते हैं ।।

मित्रों, इस युति के वजह से तलाक का दूसरा कारण माता-पिता की इच्छा के बिना विवाह करना भी होता है । इसका इलाज कुँवारी कन्याओं की सेवा-पूजा तथा मछलियों को आटे की गोलियां बनाकर खिलाना ।। पति-पत्नी के बीच दरार बनाने वाले योग कुण्डली में सूर्य एवं राहू की युति भी होती है । इसके वजह से तलाक सम्भव जो होता है वो पति-पत्नि के अपने-अपने स्टेटस या फिर उनके पिता की आर्थिक स्थिति के इगो के वजह से मतभेद भी उनके जीवन में तलाक की नौबत लाती है ।।

इसका इलाज अत्यन्त सरल एवं साधारण है । आपको बड़े-बुजुर्गों की सेवा करनी चाहिए साथ ही सूर्य को सूर्यार्घ देना चाहिये । शिवलिंग पर दूध एवं काला तिल चढ़ाना चाहिये । आपकी तकलीफ हद से अधिक कम हो जाएगी ।। मित्रों, शनि और राहू ये दोनों विखंडनकारी ग्रह माने जाते हैं । अगर किसी की कुण्डली में इन दोनों ग्रहों की युति हो तो गृहस्थ जीवन में एक दूसरे से अलग रहने के मुख्य कारण बनते हैं अथवा जीवन में अशांति एवं तलाक तक करवा देते हैं ।।

अगर आप चाहते हैं, कि आपके जीवन में इस प्रकार के नौबत न आये तो आप हनुमान जी की उपासना के साथ ही गणेश जी की आराधना भी आपको करनी पड़ेगी । हनुमान जी को तेल-सिन्दूर का लेप एवं गणेश जी को प्रशन्न करने हेतु गणपत्यथर्वशिर्ष का पाठ एवं कोमल दूर्वा चढ़ायें ।। मित्रों, बुध और राहू की युति कुण्डली में हो तो व्यक्ति के दिमागी सोच के वजह से व्यक्ति उद्विग्न रहता है । आपसी असमानता के कारण दाम्पत्य जीवन में अशांति और तलाक के नौबत उपस्थित होते हैं ।।

इसका इलाज सबसे सरल है, जब कुण्डली में बुध और राहू की युति हो तो आप जितने प्रकार के उपचारों से श्री महागणपति की पूजा-आराधना कर सकते ।। वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।


बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.