Chandra Gemstone

चन्द्रमा की शान्ति के कुछ अत्यन्त सरल उपाय ।। CHANDRAMA KI SHANTI.

हैल्लो फ्रेंड्सzzzzz.


मित्रों, आज मैं आपलोगों को चन्द्रमा की शांति के लिए सरल एवं अचूक उपाय बताते हैं । ये सभी उपाय महर्षि पाराशर प्रणीत ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हैं । संसार में प्रत्येक व्यक्ति किसी न किसी ग्रह से पीड़ित होता ही है ।।

अक्सर ग्रह-पीड़ा के निवारण के लिए गरीब एवं मध्यम वर्ग का व्यक्ति दुविधा में पड़ जाता है । यह वर्ग न तो लंबे-चौड़े यज्ञ, हवन या अनुष्ठान करवा सकता है, न ही हीरा, पन्ना, पुखराज जैसे महंगे रत्न धारण कर सकता है ।।

मित्रों, ज्योतिष विद्या देव विद्या है और इसमें कोई शक नहीं । आप किसी ज्योतिषी के पास जायेंगे तो वे अपने ग्रंथों के उपाय एवं रत्न धारण की सलाह ही देंगे ।।

ये सभी उपाय पूर्णोपयोगी एवं तत्काल प्रभावी भी होता है । तो चलिए ग्रहों की शांति के लिए कुछ सरल एवं अचूक उपाय बताते हैं ।।

सभी ग्रहों के बीच में चंद्रमा को स्त्री (माता) का स्वरूप माना जाता है । भगवान शिव ने चंद्रमा को मस्तक पर धारण किया है । चंद्रमा के देवता भगवान शिव हैं ।।

अगर आपका चन्द्रमा शुभ फल नहीं दे रहा है, तो सोमवार के दिन शिवलिंग पर जल चढ़ाएं एवं शिव चालीसा का पाठ करें । अगर 16 सोमवार का व्रत करें तो भी चंद्रमा ग्रह द्वारा प्रदत्त कष्ट दूर होते हैं ।।

नवग्रहों के रत्नों में मोती जिसे चांदी की अंगूठी में धारण करें तो लाभ हो सकता हैं । चंद्रमा की प्रशन्नता के लिए दूध, चीनी, चावल, सफेद पुष्प, दही तथा अन्य सफेद वस्तुओं का दान करना चाहिए ।।

मित्रों, अक्स़र चन्द्रमा अगर कुंडली में अस्त हो अथवा नीच का हो तो अशुभ फल देता है । ऐसी स्थिति में इस प्रकार के चन्द्रमा से शुभ फल प्राप्ति हेतु चन्द्रमा के मन्त्र का जप भी कर सकते हैं ।।

मंत्र :- ऊँ सों सोमाय नमः । दधिशंखतुषाराभं क्षीरोदार्णव सम्भवम । नमामि शशिनं सोमं शंभोर्मुकुट भूषणं ।।

ॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चन्द्रमसे नम:। ॐ ऐं क्लीं सोमाय नम: ।।

ॐ भूर्भुव: स्व: अमृतांगाय विदमहे कलारूपाय धीमहि । तन्नो सोमो प्रचोदयात् ।।

==============================================

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

==============================================

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

==============================================

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केंद्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap+ Viber+Tango & Call: +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

Website :: www.astroclasses.com
www.astroclassess.blogspot.com
www.facebook.com/astroclassess

।। नारायण नारायण ।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.