Vedic Articles

दण्डाधिकारी एवं न्यायकर्ता शनिदेव का अपने पिता से शत्रुता के मूल कारण ।। Surya, Shani, Nyaya and Shatruta.

हैल्लो फ्रेंड्सzzzzz.
==============================================


हर प्रकार के ज्योतिष, वास्तु, तन्त्र-यन्त्रादि के विषय में अधिक से अधिक जानकारी तथा हर तरह के आर्टिकल्स फ्री में पढ़ने के लिए कृपया इस पेज को लाइक करें - https://www.facebook.com/astroclassess

==============================================

मित्रों, हमारे पौराणिक कथाओं के अनुसार कश्यप ऋषि के पुत्र भगवान सूर्यनारायण की पत्नी स्वर्णा (छाया) की कठोर तपस्या से ज्येष्ठ मास की अमावस्या को सौराष्ट्र के शिंगणापुर में भगवान श्री शनि देव का जन्म हुआ ।।

माता ने शंकर जी की अत्यन्त कठोर तपस्या तेज गर्मी व धूप में बैठकर किया था । जिसके कारण माता के गर्भ में स्थित शनि देव का वर्ण काला हो गया ।।

मित्रों, परन्तु माता के इस तपस्या ने बालक शनि को अद्भुत व अपार शक्ति से युक्त कर दिया । एक बार जब भगवान सूर्य पत्नी छाया से मिलने गए तब शनि ने उनके तेज के कारण अपने नेत्र बंद कर लिए ।।

सूर्य ने अपनी दिव्य दृष्टि से इसे देखा व पाया कि उनका पुत्र तो काला है जो उनका नहीं हो सकता । सूर्य ने अपनी पत्नी छाया से अपना यह संदेह व्यक्त भी कर दिया ।।

मित्रों, इसी कारण शनि के मन में अपने माता के प्रति भक्ति और पिता से विरक्ति हो गई । शनि के जन्म के बाद पिता ने कभी उनके साथ पुत्रवत प्रेम प्रदर्शित नहीं किया ।।

अपने ही पिता के प्रति शत्रुवत भाव मन में होना ये उचित नहीं था । इसी वजह से भगवान शनि देव ने भगवान शिव की कठोर तपस्या कर उन्हें प्रसन्न किया ।।

मित्रों, जब भगवान शिव ने उनसे वरदान मांगने को कहा तो शनि ने कहा कि पिता सूर्य ने मेरी माता का अनादर कर उन्हें प्रताड़ित किया है ।।

प्रभु मेरी माता हमेशा अपमानित व पराजित होती रही । इसलिए आप मुझे सूर्य से अधिक शक्तिशाली व पूज्य होने का वरदान दीजिये ।।

तब भगवान आशुतोष ने वर दिया कि तुम नौ ग्रहों में श्रेष्ठ स्थान पाने के साथ ही सर्वोच्च न्यायाधीश व दंडाधिकारी रहोगे । साधारण मानव तो क्या देवता, असुर, सिद्ध, विद्याधर, गंधर्व व नाग भी तुम्हारे नाम से ही भयभीत होंगे ।।

==============================================

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

==============================================

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

==============================================

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केंद्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap+ Viber+Tango & Call: +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

Website :: www.astroclasses.com
www.astroclassess.blogspot.com
www.facebook.com/astroclassess


।। नारायण नारायण ।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.