Vedic Articles

शराब छुड़वाने के कुछ अत्यंत प्रभावी उपाय ।। Sharab Chhudavane ke tips.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, जिन महिलाओं के पति अधिक शराब का सेवन करते हैं तथा अपनी आय से अधिक संपत्ति का हिस्सा शराब पर लुटा देतें हैं । उनके लिए आज मैं सबसे सरल एवं प्रभावी उपाय बताता हूँ ।।

संयोग से जिस दिन आपकी जूती दरवाजे पर उल्टी पड़ी हो और आपके पति शराब पीकर घर आयें और उनके जूते भी अपने आप ही उल्टा हो जाये । तो आप उस जूते के वजन के बराबर आटा लेकर उस आटे की बिना तवे तथा चकले की मदद से रोटी बनाकर कुत्ते को खिला दें ।।

ये टोटका इतना प्रभावी है कि आप देखेंगी कुछ ही समय में वह शराब से घृणा करने लगेंगे । परन्तु इस बात का ध्यान रखें कि इसी प्रकार का संजोग लगातार कम से कम तीन दिन बने और आप इस उपाय को करें तो आपके पति शराब छोड़ ही देंगे ।।

मित्रों, शराब छुड़ाने का एक उपाए यह भी है की आप किसी भी रविवार को एक शराब के उसी ब्रांड की एक बोतल लायें जो आपके पति सेवन करते हों । उस बोतल को किसी भी भैरव मंदिर पर अर्पित कर दें ।।

दुसरे दिन पुन: मंदिर जायें और कुछ रूपया देकर पुजारी जी से वही बोतल वापिस घर ले आयें । जब आपके पति सो रहें हो अथवा शराब के नशे में चूर होकर मदहोश हों तो आप उस बोतल को अपने पति के ऊपर से उतारा करें ।।

अपने पति के ऊपर घुमाते हुए २१ बार "ॐ नमः भैरवाय" इस मन्त्र का जप करें । उतारा करने के बाद उस बोतल को शाम को किसी भी पीपल के वृक्ष के नीचे चुपचाप रखकर घर आ जायें फिर चमत्कार देखें ।।

मित्रों, यदि आपके पति अधिक क्लेश करते हों तो आप सोमवार से आरम्भ करके प्रथम सोमवार को अशोक वृक्ष के पास जाकर धुप-दीप से अर्चना कर अपनी समस्या का निवेदन करें और जल चढ़ायें ।।

फिर उसी वृक्ष के सात पत्ते तोड़कर अपने घर ले आयें और अपने पूजास्थल में रख कर उनकी पूजा करें । अगले सोमवार को पुन:यह क्रिया दोहराएँ तथा सूखे पत्तों को मंदिर में अथवा बहते जल में प्रवाहित कर दें ।।

मित्रों, यदि किसी घर में पति-पत्नी में आपस में बिना बात के झगड़ा होता हो तो शयनकक्ष में सोते समय पति अपने तकिये के नीचे लाल सिन्दूर रखे एवं पत्नी अपने तकिये के नीचे कपूर रखे ।।

सुबह जागकर सर्वप्रथम पुरुष अपना आधा सिन्दूर घर में ही कहीं गिरा दें और आधे से पत्नी की मांग भर दें तथा पत्नी अपने तकिये के नीचे रखे कपूर को जला दे । इस टोटके का प्रभाव इतना है, कि कितनों का घर संवर गया ।।

मित्रों, किसी महिला का पति यदि उसका अकारण ही बार-बार अपमान करता हो तथा किसी अन्य महिला के पीछे उसके प्यार में यदि पागल होकर आपका अपमान करता हो......

...तो किसी भी गुरूवार को तीन सौ ग्राम बेसन के लड्डू, आटेके दो पेड़े, तीन केले एवं इतने ही चने की गीली दाल लेकर किसी गाय को खिला दें । इस बात का ध्यान रखें की जो गाय अपने बछड़े को दूध पिला रही हो उसे ही खिलायें ।।

गाय को खिलाते हुए ये प्रार्थना करें की हे माँ ! मैंने आपके बच्चे को फल दिया आप मेरे बच्चे को फल देना । आप देखेंगी की कुछ ही दिनों में आपके पति सही रास्ते पर आ जायेंगे एवं दूसरी भूतनी से उनको वैराग्य सा हो जायेगा ।।

मित्रों, यदि किसी अन्य महिला के वजह से अथवा किसी अन्य कारण से आपको लग रहा है की आपका परिवार टूट रहा है अथवा तलाक तक के हालात पैदा हो गये हैं तो ऐसी स्थिति से बचने के लिए....

...किसी शिव मंदिर में अगर श्रावण मास हो तो सर्वोत्तम अथवा प्रदोष के दिन से भी आप किसी विद्वान ब्राह्मण से ग्यारह दिन तक लगातार 'रुद्राष्टध्यायी' से ग्यारह आवृत्ति पूर्वक रुद्राभिषेक करवायें ।।

यदि स्त्री को श्वेत प्रदर, मासिक धर्म में अनियमितता अथवा इसके होने पर कमर दर्द हो तो पीपल वृक्ष की जटाको गुरूवार की दोपहर में काट कर घर लायें और उसे छाया में अच्छी तरह से सुखा लें ।।

जब वो जटायें अच्छी तरह से सुख जाये तो उसे पीस कर २०० ग्राम दही में १० ग्राम जटा के चूर्ण का नियमित सात दिन तक सेवन करें । रात में सोते समय त्रिफला चूर्ण का भी यदि सादा जल के साथ सेवन करें तो सात दिन में इस समस्या से मुक्ति मिल जाएगी ।।

==============================================
==============================================

मत्स्य योग एवं उसके फल - बृहत्पाराशर होराशास्त्रम् के 19वें अध्याय में वर्णित अनेकयोगाध्यायः में ज्योतिष के सभी महत्वपूर्ण योगों का विस्तृत वर्णन किया गया है । जातक के जीवन में इन योगों का क्या असर होता है, इस बात का विस्तृत वर्णन हम कर रहे हैं । तो आइये जानें इस विडियो टुटोरियल में मत्स्य योग एवं उसके फल के विषय में - https://youtu.be/V6oj0rWZsPY

==============================================
==============================================

कुर्म योग एवं उसके फल - बृहत्पाराशर होराशास्त्रम् के 19वें अध्याय में वर्णित अनेकयोगाध्यायः में ज्योतिष के सभी महत्वपूर्ण योगों का विस्तृत वर्णन किया गया है 

जातक के जीवन में इन योगों का क्या असर होता है, इस बात का विस्तृत वर्णन हम कर रहे हैं । तो आइये जानें इस विडियो टुटोरियल में कुर्म योग एवं उसके फल के विषय में - https://youtu.be/gvS83u8M628


==============================================
==============================================

खड्ग योग एवं उसके फल - बृहत्पाराशर होराशास्त्रम् के 19वें अध्याय में वर्णित अनेकयोगाध्यायः में ज्योतिष के सभी महत्वपूर्ण योगों का विस्तृत वर्णन किया गया है ।। 

जातक के जीवन में इन योगों का क्या असर होता है, इस बात का विस्तृत वर्णन हम कर रहे हैं । तो आइये जानें इस विडियो टुटोरियल में खड्ग योग एवं उसके फल के विषय में - https://youtu.be/yvDOj-KMpI8

==============================================
==============================================

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

==============================================


किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

==============================================

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केंद्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap+ Viber+Tango & Call: +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

Website :: www.astroclasses.com
www.astroclassess.blogspot.com
www.facebook.com/astroclassess

।। नारायण नारायण ।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.