My Articles

व्यसाय बाधा से मुक्ति एवं सुखी होने के कुछ प्रभावी नुख्से ।। Success in business and Tips to be happy.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, जैसा की आप जानते हैं, कि आज मन्दी का दौर चल रहा है । सभी लोग परेशान हैं, फिर चाहे वो नौकरी वाला हो अथवा व्यवसाय वाला । हाँ सरकारी नौकरी की बात अलग है उनकी तो चाँदी ही है ।।

परन्तु अगर आपके व्यापार में मंदी आ गयी है या नौकरी में परेशानियों का सामना करता पड़ रहा हो तो एक उपाय आप कर सकते हैं । जी हाँ ! आज मैं आपलोगों को कुछ ऐसे नुख्से बताने जा रहा हूँ जिसे करके आप मन्दी से छुटकारा पा सकते हैं ।।

मित्रों, करना ये है, कि एक साफ-सुथरी काँच की शीशी में सरसों का तेल भरकर उस शीशी को किसी तालाब या बहती नदी में डाल देना है । आपके जीवन की मन्दी का असर शीघ्र ही चला जायेगा और आपके कारोबार में जान आ जाएगी ।।

किसी भी गुरुवार या मंगलवार को देशी हल्दी के सात गाँठ एवं थोड़ा-सा गुड तथा इसके साथ पीतल का एक छोटा सा टुकड़ा इन सबको मिलाकर एक कपड़े में बांधकर उसे अपने ससुराल की दिशा में फेंक दें ।।

मित्रों, अगर कोई कन्या अपने ससुराल में दुखी हो तो अपने मायके की दिशा में कुछ मेहँदी की पत्तियाँ एवं थोडा सा साबुत उड़द फेंक देवे । ऐसा करने से वर-वधु में प्रेम भी बढ़ता है एवं घर में सुख-शान्ति भी आती है ।।

अगर आप किसी विशेष कार्य के लिए घर से बाहर जा रहे हैं तो एक साबुत नीबू लेकर गाय के गोबर में दबा दें । अगर सम्भव हो तो उसके ऊपर थोड़ा-सा कामिया सिन्दूर छिड़ककर अपनी मनोकामना व्यक्त करें और चले जायें, कार्य निश्चित ही सिद्ध होगा ।।

मित्रों, हमारे बुजुर्ग एक टोटका बताया करते थे, की जब सावन के महीने में पहली बरसात हो तो बहते पानी में अपने विवाह को दुबारा करने अर्थात् विवाह जैसा आचरण करने से हर प्रकार का दुर्भाग्य दूर हो जाता है ।।

यदि आपके कारोबार में हानि-ही-हानि हो रही हो एवं ग्राहकों का आना कम हो गया हो तो हो सकता है किसी ने आपके व्यापारिक प्रतिष्ठान को बांध दिया है । इस बाधा से मुक्ति के लिए दुकान या कारखाने के पूजन स्थल में.....

....किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष में शुक्रवार के दिन "सर्वार्थ अमृतसिद्धि योग" हो अथवा "सर्वार्थसिद्धि योग" उस समय आप "माता श्री धनदा देवी का यंत्र" स्थापित करें । प्रतिदिन केवल धूप अवश्य जलायें एवं उनके दर्शन करें ।।

मित्रों, ग्यारह गोमती चक्र और तीन लघु नारियलों की यथाविधि पूजा कर उन्हें पीले वस्त्र में बांधकर बुधवार या शुक्रवार को अपने दुकान के दरवाजे पर लटकाएं तथा हर पूर्णिमा को धूप दीप जलायें ।।

उपर जितने भी उपाय बताये गये हैं ये सभी प्रमाणिक हैं इन्हें पूर्ण श्रद्धा-भाव से किया जाय तो कारोबार में अवश्य लाभ होगा । सभी क्रियाओं को निष्ठापूर्वक नियमित रूप से करने से ग्राहकों की संख्या में वृद्धि होगी और बिक्री बढ़ेगी ।।

मित्रों, अंतिम एक बात और बता दूँ कि यदि आपका धन किसी के पास कहीं फंस गया हो और लेनेवाला देने का नाम न ले रहा हो तो आप जो भगवान सूर्य को जल देते हैं उस जल में 11 बीज लाल मिर्च के डालकर जल देवें ।।

सूर्य भगवान से अपने धन मिलने के लिए प्रार्थना करें । इसके साथ ही "ॐ आदित्याय नमः" अथवा सूर्य के वैदिक मन्त्र का यथासमयानुसार जप करें । लाल मिर्च के बीज उसका नाश कर देंगे अगर वो शीघ्र ही आपके पैसे न लौटाया तो ।।

==============================================

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

==============================================

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

==============================================

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केंद्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap+ Viber+Tango & Call: +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

Website :: www.astroclasses.com
www.astroclassess.blogspot.com
www.facebook.com/astroclassess

।। नारायण नारायण ।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.