Copy
Astro Articles

मानव जीवन में शनि के दु:ष्प्रभावों के कुछ लक्षण ।। Some signs of the side effects of Sani.

हैल्लो फ्रेंड्सzzzzz.

मित्रों, जी हाँ मित्रों, अगर आपके घरों की दीवारों पर अकस्मात दरारें आ जाती हैं तो ये शनिदेव के कोप का प्रभाव है । इस विषय को पूर्णतः एवं स्पष्टता से समझने के लिए आज के इस लेख को ध्यान से पढ़ें और गम्भीरता से अमल में लायें ।।

अगर आप अपने घर में नियमित साफ-सफाई नहीं करते तो घर की दीवारों पर मकड़ियां अपना जाला बनाना शुरू कर देती हैं । ये जाले शनिदेव के प्रकोप को और बढ़ाती है । इसलिए घर नियमित और ध्यान से सफाई करें ।।

शनिदेव के दु:ष्प्रभाव जिस व्यक्ति पर हों उसके घर नमकीन प्रदार्थों में भी चींटियां लगती हैं । काली बिल्लियां जिसके घर रहती हों, बच्चे जनती हों तथा आपस में लड़ती हो ये सब शनिदेव के प्रकोप को बढ़ाते हैं ।।

व्यक्ति के स्वभाव और विचारों में बदलाव, उसके अन्दर काम भावना का बढ़ जाना तथा उसके मन और भावनाओं पर नियंत्रण नहीं रहना । व्यक्ति के अनैतिक संबंधों का बढ़ना ये सब शनिदेव के प्रकोप को बढ़ाने वाले लक्षण हैं ।।

जातक के सूझबूझ का खो जाना, अर्जित किया हुआ धन तथा अपना कीमती समय बेकार की यात्राओं में लग जाना । अकारण झूठ बोलना और यहाँ तक की आचरण और विचारों में झूठ का होना और साथ अपनी गलती स्वीकार न करना ।।

अत्यधिक सुस्त हो जाना, गंदगी पसंद होना, खुद को साफ़-सुथरा नहीं रख पाना । नियमित स्नान न करना तथा यहाँ तक की अपने बाल और नाखून भी न काटना ये शनिदेव के प्रकोप को बढ़ाता है ।।

घर का खाना अच्छा न लगना बाहर के खानपान में रूचि का बढ़ना । मांसाहार भक्षण, मदिरा का सेवन करना तथा बासी एवं तला हुआ भोजन करना ये इस प्रकार के लक्षण भी शनिदेव को भड़काता है ।।

प्रॉपर्टी विवादों का बढ़ना पैतृक संपत्ति में अकारण विवाद खड़ा हो जाना । घर के किसी दीवार का अचानक से गिर जाना । भवन निर्माण में अकारण अत्यधिक धन का व्यय होना शनि के दुष्प्रभावों के परिणाम का सूचक हैं ।।

घुटनो में जकड़न, टांगों पर बुरा प्रभाव तथा चमड़े के जूते-चप्पल आदि का खो जाना । जूते-चप्पल आदि का जल्दी-जल्दी टूट जाना, परिश्रम के बाद भी मनचाही पदोन्नति का न मिलना ये सभी लक्षण शनिदेव के कोप से प्राप्त हिते हैं ।।

कार्यक्षेत्र में परेशानी, उच्चाधिकारियों से संबंधों का बिगड़ना एवं अचानक से नौकरी का छूट जाना । बार-बार तबादले का होना अथवा अनवाँछित जगह पर तबादला होना शनि के कोप से मिलने वाले परिणाम कहे गए हैं ।।

पेट और पीठ में दर्द का सदा ही बने रहना तथा किसी भी काम में तरह-तरह की परेशानियों का आना । कामकाज का बिलकुल से ठप हो जाना एवं अच्छे खासे चलते हुए व्यापार का लगभग बन्द जाना ये सभी भी उसी श्रेणी के लक्षण हैं ।।

कानूनी दावपेचों में उलझना जिससे अकारण न्यायालय के चक्कर काटना । इनकम टैक्स एवं सेल टैक्स आदि के छापा पड़ जाना । जीवनसाथी के चरित्र पर लांछन लगना अथवा सच में अनैतिक संबंध होना शनि द्वारा मिलने वाले दुष्परिणाम के सूचक हैं ।।

भाई-बहन, दोस्त-रिश्तेदार जातक को लुटने और धोखाधड़ी के कोई अवसर नहीं छोड़ते । बल्कि ये लोग उसके जीवन खराब करने में भी कोई कसर नहीं छोड़ते । इस प्रकार के कोई भी लक्षण हो तो समझना शनिदेव के न्याय की प्रक्रिया आपपर लागू हुई है ।।

क्योंकि शनिदेव प्रकृति को संतुलित रखने एवं लोगों को न्याय देने का कार्य करते हैं । वैसे शनिदेव को क्रोधी ग्रह भी माना गया है इसलिए कुपित होने पर हंसते-खेलते संसार को बर्बाद भी कर देते हैं ।।

मित्रों, इस संसार में कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं होगा जो शनिदेव के प्रभाव से अछूता हो । शनिदेव का नाम सुनते ही एक अकारण भय का मन में उत्पन्न हो जाना स्वाभाविक बात हो जाता है ।।

शनिदेव से व्यक्ति का डर अकारण नहीं होता बल्कि उसके अपने कर्म ही शनि के रूप में डराते हैं । परन्तु इन्हीं शनिदेव से जीवन की दिशा, सुख-दु:ख आदि अच्छी बातों का निर्धारण भी होता है ।।

वास्तव में शनिदेव कुकर्मियों को ही दण्ड देते हैं और साथ ही सत्कर्म करने वालों एवं कर्मठ लोगों का भग्योदय भी करते हैं । कुकर्मियों के भाग्य का हरण करके कंगाल बनाते हैं तो वहीँ सत्कर्मियों का भाग्योदय भी करते हैं ।।

शनिदेव जातक को दुःख देकर एक प्रकार की चेतावनी देते हैं कि व्यक्ति अपने कर्म सुधारे । जीवन के मार्ग में शास्त्रानुसार निर्धारित कर्म एवं धर्म को अपनाकर बुरे कर्मों का परित्याग करे ।।

मित्रों, मानव जीवन में अनेकों परेशानियां देकर शनिदेव व्यक्ति को सुधारना चाहते हैं ताकि प्रकृति का सञ्चालन सुचारू रूप से होता रहे । हम जब भी कोई अनैतिक कार्य करते हैं तो किसी अन्य व्यक्ति को परेशानी होती है । ऐसा न हो इसलिए शनिदेव को आपके जीवन में आना पड़ता हैं ।।

==============================================

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

==============================================

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।
==============================================

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केंद्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap+ Viber+Tango & Call: +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

Website :: www.astroclasses.com
www.astroclassess.blogspot.com
www.facebook.com/astroclassess

।। नारायण नारायण ।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.