Vastu Articles

वास्तुदोष और उसके निवारण के सरल उपाय, पार्ट-3.।।



वास्तुदोष और उसके निवारण के सरल उपाय, पार्ट-2.।। Vastudosh Nivaran ke Upaya. पार्ट-2.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, यदि आपके घर का मुख्य द्वार दक्षिणमुखी है तो यह भी घर के मुखिया के लिये हानिकारक होता है । इसके लिये मुख्य द्वार पर श्वेतार्क गणपति की स्थापना करनी चाहिए ।। अपने घर के पूजा घर में देवताओं के चित्र भूलकर भी आमने-सामने नहीं रखने चाहिए इससे बड़ा दोष उत्पन्न होता है । अपने घर के ईशान कोण में स्थित पूजा-घर में अपनी बहुमूल्य वस्तुएं नहीं छिपानी चाहिए ।।

मित्रों, यदि आपके रसोई घर में रेफ्रिजरेटर नैऋत्य कोण में रखा है तो इसे वहां से हटाकर उत्तर या पश्चिम में रखें । दीपावली अथवा अन्य किसी शुभ मुहूर्त में अपने घर में पूजास्थल में वास्तुदोष नाशक कवच की स्थापना करें और नित्य इसकी पूजा करें ।।   इस कवच को दोषयुक्त स्थान पर भी स्थापित करके आप वास्तुदोषों से सरलता से मुक्ति पा सकते हैं । अपने घर में ईशान कोण अथवा ब्रह्मस्थल में स्फटिक श्रीयंत्र की शुभ मुहूर्त में स्थापना करें तो अत्युत्तम होगा ।।

मित्रों, यह श्रीयन्त्र लक्ष्मीदायक तो होता ही है, साथ ही साथ घर में स्थित वास्तुदोषों का भी निवारण करता है । श्रीयन्त्र के विषय में और विस्तृत जानने के लिए इस लिंक को क्लिक करें ।।

हम सभी को अपने-अपने घरों में सुबह सबसे पहले जागकर नित्यक्रिया से निवृत्त होकर पूजा करने के बाद गाय के बछड़े का स्वयं से सुखा हुआ एक कंडा मिले तो सर्वोत्तम नहीं तो उपले पर थोड़ी अग्नि जलाकर उस पर थोड़ी गुग्गल रखकर "ॐ नमों नारायणाय" इस मंत्र से हवन करना चाहिए ।।   मित्रों, मंत्रोच्चार करते हुए घी की कुछ बूंदें डालते हुए गुग्गल जलायें । गुग्गल से जो धुंआ निकले उसे अपने घर के प्रत्येक कमरे में घुमायें । इससे घर की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होगी और वास्तुदोषों समाप्त हो जायेगा ।।

घर में सूखे हुए पुष्प ना रहने दें और गुलदस्ते में रखे हुए फूल सूख जायें तो नए पुष्प लगा दें । सूखे हुए पुष्पों को निकालकर नदी में प्रवाहित कर दें । सुबह के समय थोड़ी देर तक वेद मंत्र आदि की धुन सीडी आदि के माध्यम से बजायें ।।   मित्रों, कोई भजन संगीत आदि बजाने के लिए मना नहीं है परन्तु सायंकाल के समय घर के सभी सदस्य सामूहिक आरती अवश्य करें । ये उपाय बहुत ही प्रभावी है इससे परिवार के सभी सदस्यों में आपसी प्रेम भी बढ़ता है और घर के वास्तुदोष भी दूर होते हैं ।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.