Vedic Articles

देवताओं की पूर्ण कृपा प्राप्ति हेतु किस पुष्पादि से पूजन करें ?।। DevKripa Hetu Vishisht Pooja Vidhan.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,
 Astro Classes, Silvassa.

मित्रों, आज मैं आपलोगों को बताऊंगा की कौन से देवता को कौन सा पुष्प चढ़ाना चाहिये । किस देवता को कौन सा पुष्प निषेध है ये भी हम जानेंगे । तुलसी कब तोडना चाहिये और किस समय तुलसी तोडना मना है ये भी हम जानने का प्रयास करेंगे ।।

तो चलिये सबसे पहले गणेशजी से शुरू करते हैं । गणेशजी को तुलसी का पत्र छोड़कर सभी प्रकार के पत्र-पुष्प प्रिय हैं । अतः सभी अनिषिद्ध पत्र-पुष्प भी इनपर चढ़ाये जा सकते हैं । यथा - तुलसीं वर्जयित्वा सर्वाण्यपि पत्रपुष्पाणि गणपतिप्रियाणि ।।(आचारभूषण)

सर्वाधिक प्रिय गणेश जी को दूर्वादल है । इसलिये सफेद या हरा दूर्वा जिसमें तीन या पाँच पत्ती हो ऐसा चढ़ाना चाहिये । यथा - हरिता श्वेतवर्णा वा पञ्चत्रिपत्रसंयुता:। दुर्वांकुरा मया दत्ता एकविंशतिसम्मिता: (गणेशपुराण)। तथा गणेशो लड्डूकप्रियः = गणेश जी को लड्डू का भोग अत्यंत प्रिय है आचारेन्दु)।।
 Astro Classes, Silvassa.

मैंने अपने महाराष्ट्र की एक परम्परा देखी है, जिसमें गणेश जी को लोग तुलसी चढ़ाते हैं । जबकि आचारभूषण का उपरोक्त श्लोक, आचाररत्न का - न तुलस्या गणाधिपम् । तथा "गणेशं तुलसीपत्रैर्दुर्गां नैव तू दूर्वया" हर जगह गणेशजी को तुलसी निषिद्ध है ।।

मित्रों, भगवान शिव की पूजा में जो पत्र-पुष्प विहित है, वो सब माता गौरी को भी प्रिय हैं । अपामार्ग माताजी को अत्यंत प्रिय है । भगवान शिव पर चढाने के लिये जिन फूलों का निषेध है, वे भी माता भगवती पर चढ़ाये जाते हैं ।।

यथा - यानि पुष्पाणि चोक्तानि शंकरस्यार्चने पुरा । तानि गौर्याः प्रशस्तानि त्वपामार्गो विशेषतः ।। शिवार्चने निषिद्धानि पत्रपुष्पफलानि च । तानि देव्याः प्रशस्तानि अनुक्तानि विशेषतः ।। (पारिजात)

जितने भी लाल फुल होते हैं वे सभी देवी को चढ़ाया जा सकता है । श्वेत फुल भी जिनमें सुगंध हो वो सभी देवी को विशेष प्रिय है । जैसे - बेला, चमेली, केशर, श्वेत और लाल फुल, श्वेत कलम, पलाश, तगर, अशोक, चम्पा, मौलसिरी, मदार, कुंद, लोध, कनेर, आक, शीशम और अपराजित (शंखपुष्पी) के फुल चढ़ाये जाते हैं ।।
 Astro Classes, Silvassa.

शातातप में लिखा है, कि आक और मदार के फुल जब कोई अन्य फुल न मिले तो ही चढ़ाया जाय । परन्तु दुर्गा को छोड़कर अन्य देवियों को इस फुल को नहीं चढ़ाना चाहिये । इस फुल को माँ दुर्गा को चढ़ाया जा सकता है ।।

दूर्वा, तिलक, मालती, भंगरैया और तमाल ये पुष्प विहित भी हैं और निषिद्ध भी । विहित-प्रतिषिद्ध से अभिप्राय है, कि जब विहित पुष्प न मिले ती इन पुष्पों को चढ़ाया जा सकता है । अर्थात अभाव में इन पुष्पों से पूजा करने में कोई हर्ज नहीं है ।।

==============================================

मित्रों, कल हम बाकी के देवताओं तथा भगवान शिव की विशिष्ट कृपा प्राप्ति हेतु कैसे करें पूजन ? इस विषय पर विस्तृत चर्चा करेंगे । इसलिये ज्योतिष के गूढ़-से-गूढ़ ज्ञान एवं अन्य हर प्रकार के टिप्स & ट्रिक्स के लिए हमारे फेसबुक के ऑफिसियल पेज को अवश्य लाइक करें - Astro Classes, Silvassa.

==============================================

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

==============================================

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।
 Astro Classes, Silvassa.

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केंद्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap+ Viber+Tango & Call: +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

My Website : My Blog : My facebook :

।।। नारायण नारायण ।।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.