Astro Articles

अतुलनीय लक्ष्मीवान बनाते हैं हस्तरेखा के कुछ चिन्ह ।।



अतुलनीय लक्ष्मीवान बनाते हैं हस्तरेखा के कुछ चिन्ह ।। Hastarekha Me Rajayoga.
 Mata Mahalakshmi.

हैल्लो फ्रेंड्सzzz.

मित्रों, वर्तमान युग में तमाम लोग अपने उज्जवल भविष्य की प्राप्ति तत्सम्बन्धी उपायों के लिये तथा जानकारियाँ हासिल करने के लिये व्यस्तातिव्यस्त देखे जाते हैं ।।

वैसे तो हर तरह की जानकारियाँ हम अपने ज्ञान के अनुसार देते ही रहते हैं, परन्तु आज कुछ हस्तरेखा पर आधारित कुछ जानकारियाँ आप सभी के सेवार्थ प्रस्तुत कर रहा हूँ ।।


मित्रों, जिस व्यक्ति की अनामिका अँगुली के मूल में जो रेखा होती है उसे पुण्या रेखा कहते हैं । मध्यमा अँगुली के नीचे से आरम्भ होकर मणिबन्ध तक जो रेखा जाती है उसे उर्ध्व रेखा कहते हैं ।।


ये दोनों रेखायें सम्पूर्ण राजयोग का निर्माण करती है । जिस जातक के अंगूठे के मध्य में यव के समान रेखा होती है, वह कुलभूषण, यशस्वी तथा अनेकानेक सुख-सुविधाओं से सम्पन्न होता है ।।


मित्रों, जिस जातक के हाथ में मछली, हाथी, तालाब, अंकुश, वीणा, पर्वत, खड्ग, हल और पुष्पमाला में से कोई भी एक चिन्ह हो तो वह जातक धनवान एवं समाज में बहुत प्रतिष्ठित होता है ।।

जिस जातक के हाथ या पाँव में घोडा, कमल, चक्र, ध्वज, रथ, आसन, बांस की डलिया, घट, मृदंग, वृक्ष और दण्ड इनमें से किसी भी प्रकार का चिन्ह हो तो वह जातक अखण्ड लक्ष्मीपति होता है ।।


मित्रों, जिस जातक का ललाट विशाल हो, कमल पत्र के समान आँखें हो, सुन्दर और गोल सिर हो तथा आजानुबाहु हो तो वह जातक देश के बड़े-से-बड़े राजनैतिक पदों पर पदस्थ हो सकता है ।।


जिस जातक के हाथ की हथेली या पैर के तलवे में तिल होता है वह जातक राजपरिवार में जन्म लेकर बार-बार हवाई यात्रा जैसे उत्तमोत्तम साधनों का प्रयोग करता है ।।


हम अपने अगले लेख में इसी प्रकार के अन्य ज्ञानयुक्त बातों के साथ उपस्थित होंगे । इसलिये ज्योतिष के गूढ़-से-गूढ़ ज्ञान एवं अन्य हर प्रकार के टिप्स & ट्रिक्स के लिए हमारे फेसबुक के ऑफिसियल पेज को अवश्य लाइक करें - Astro Classes, Silvassa.


  
वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।


संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call:   +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com


।।। नारायण नारायण ।।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.