Home Vastu Tips

घर में मंदिर की दिशा अथवा स्थान कौन सा होना चाहिये ?

घर में मंदिर की दिशा अथवा स्थान कौन सा होना चाहिये ? Ghar Me Mandir Ki Sahi Disha.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,


मित्रों, वास्तु शास्त्र के अनुसार मन्दिर के लिए सर्वोत्तम स्थान ईशान कोण [उत्तर-पूर्व] है ।।


भगवान को पूर्व की दीवाल पर स्थापित करना चाहिये जिससे वहाँ बैठकर पूजा करने वाले का मुंह पूर्व की ओर और भगवान का मुंह पश्चिम की ओर रहे ।।


केवल हनुमान या माँ काली की फोटो को उत्तर की दीवाल में स्थापित कर सकते हैं । इससे देवी-देवता का मुंह तो दक्षिण मुखी रहेगा और जिसमें कोई समस्या भी नहीं है, परन्तु आपका मुंह पूजन के समय उत्तर की ओर रहेगा ।।


कदाचित यदि घर के ईशान कोण में जगह न हो तो पूजा स्थल को घर के ईशान-पूर्व या फिर पूर्व दिशा में भी रखा जा सकता है ।।

==============================================


==============================================



==============================================






।।। नारायण नारायण ।।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.