Astro Articles

जब समय ख़राब चल रहा हो तो सब बुरा ही होता है क्यों ?।। Bura Vakt Kyon Aata Hai, Usaka Nivaran Vidhi.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,



मित्रों, बिलकुल सही बात है, जब समय खराब चल रहा होता है, तो सब बुरा ही होता है । जिसके साथ भी ऐसा होता है, कि उसने कभी कल्पना भी नहीं की होती है । दूसरा ये होता है, कि बुरे समय में वह किसी की अच्छी बात तक भी सुनने को राजी नहीं होता । परन्तु इन्सान का बुरा समय कब आएगा इस बात का पता लगाया जा सकता है, उसकी जन्मकुण्डली को देखकर, ज्योतिषीय गणना के आधार पर ।।


इतना ही नहीं, उस बुरे वक्त हा हल भी आसानी से निकाला जा सकता है । उसका आधार भी उसकी कुण्डली ही होता है । अगर आप किसी अनुभवी ज्योतिषी के पास जाते है, जिनका अनुभव ज्योतिष में अच्छा हो तो वह आपको जो भी सलाह देगा, निश्चित ही आपकी दशा बदल जाएगी । परन्तु उसके लिये उस व्यक्ति का अनुभव ज्योतिष में होना चाहिये । दो-चार बैटन के जानकारी के आधार पर वो आपको उचित मार्ग कदापि नहीं दिखला सकता ।।


मित्रों, अगर हम व्यक्ति के बुरे समय के गणना की बात करें तो उसका आधार चन्द्रमा होता है । चन्द्रमा से विभिन्न ग्रहों के गोचर से इस गणना को किया जाता है । जैसे कि शनि का बारहवें, पहले, दूसरे, चौथे एवं आठवें भाव में गोचर करना । बृहस्पति का छठे, आठवें तथा दसवें भाव में गोचर करना । राहू का चौथे, नवें और बारहवें भाव में गोचर करना । केतू का तीसरे, छठे या आठवें भाव में गोचर करना ।।


इसके अलावा व्यक्ति के जीवन में बुरा समय विभिन्न ग्रहों की दशाओं में भी आता है । जैसे की जातक पर उसकी कुण्डली के बाधक ग्रह की महादशा भी बुरा समय लेकर आता है । जातक की कुण्डली के छठे भाव के स्वामी की महादशा भी बुरा वक्त लेकर आता है । आपकी कुण्डली के मारकेश ग्रह की महादशा भी आपका बुरा वक्त लेकर आता है । आपकी कुण्डली के अष्टम भाव के स्वामी की महादशा भी आपका बुरा वक्त ही लेकर आता है ।।


मित्रों, अगर आपके उपर आपकी कुण्डली के बारहवें भाव के स्वामी ग्रह की महादशा भी आती है तो निश्चित ही आपका अच्छा ख़ासा चलता हुआ कार्य बाधित होता ही है । परन्तु इस बुरे समयों से और इनके कुप्रभावों से बचा जा सकता है । इसके लिए कोई अनुभवी ज्योतिषी आपको मिले और सही परामर्श दे । जैसे कि सही समय पर सही उपाय बताये और करवाये ना की अपनी जरुरतों के अनुसार पैसे कमाने के लिये ही उपाय बताये ।।


कभी-कभी बहुत बड़े लोगों से भी गलतियाँ हो जाती है । परन्तु ध्यान रखें कि आपकी एक साधारण सी गलती से किसी की जिंदगी बदल जाती है । लोग बताते हैं, कि फलाने बहुत बड़े ज्योतिषी है, उन्होंने मुझे सूर्य की दशा में राहू का गोमेद पहनने को बोला था । मैंने पूछा क्यों ? तो उन्होंने बताया कि राहू भाग्य भाव में बैठा था इसलिये भाग्येश हुआ न ? इसलिये । अब आप ही सोंचें..... और विचार करें ।।


==============================================




==============================================




==============================================










।।। नारायण नारायण ।।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.