Astro Articles

लग्न भाव से सम्बंधित कुछ प्रमुख योग ।।

हैल्लो फ्रेंड्सzzzzz.

  Har Har Mahadeva.


लग्न भाव से सम्बंधित कुछ प्रमुख योग ।। Lagna Bhava And Your Horoscope Yoga.


============================================
============================================


१.लग्नेश शुभग्रह होकर यदि धन भाव में स्थित हो, तो वह व्यक्ति अपने जीवन में निश्चय ही अकस्मात् धन प्राप्त करता है तथा उस धन का सदुपयोग भी करता है ।।


२.यदि किसी कुण्डली में लग्नेश दुसरे भाव में हो, दुसरे भाव का मालिक ग्रह यदि एकादश (लाभ) भाव में बैठा हो और एकादश भाव का स्वामी ग्रह यदि लग्न में हो तो भी निश्चय ही अकस्मात् धन प्राप्त करता है ।।


३.निर्बल लग्नेश ४/५/९ वें भाव में बैठा हो या अष्टमेश भी यदि ४/५/९ वें भाव में बैठा हो तो ऐसा जातक जिसके साथ रहता है, उसका दिवाला निकालने वाला होता है ।।


४.पंचमेश यदि किसी जातक की कुण्डली में लग्न भाव में बैठा हो तो वह जातक अतुलनीय संपत्ति का मालिक होकर समस्त ऐश्वर्यों को भोगता है ।।


५.किसी जातक की कुण्डली में यदि सप्तमेश, नवमेश, एकादशेश तीनों लग्न में बैठे हों, तो ये जमींदार योग कहलाता है । ऐसा जातक ढेरों जमीन का मालिक होकर नौकर-चाकरों से घिरा रहता है ।।


My Official Page - https://www.facebook.com/astroclassess



बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.