Copy
Astro Articles

अपना हाथ देखकर जाने की किस क्षेत्र में आपका कैरियर आसानी से बन पायेगा ।।

पना हाथ देखकर जाने की किस क्षेत्र में आपका कैरियर आसानी से बन पायेगा ।। Hastarekha Se Apna Carrier Chune.


हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, निश्चित ही आप अपनी हथेली को देखकर जान जायेंगे कि आप किस क्षेत्र को चुनेंगे तो आपका जीवन सर्वोच्च उंचाई को छू लेंगे । अपनी हथेली को अच्छे से देखिये और समझिए कि इस पर क्या लिखा है ।।

और ये बहुत ही उलझन भरा प्रश्न होता है, कि आप किस करियर में जा सकते हैं । अगर आप अपनी रेखाओं को ध्यान से देखें तो जान सकते हैं, कि भाग्य ने आपके लिए किस तरह का करियर चुना है ।।

अच्छी एवं सुन्दर भाग्य रेखा, अनामिका की तुलना में लम्बी तर्जनी, कनिष्ठा, अनामिका के पहले पोरे को पारकर जाए । शाखायुक्त मस्तिष्क रेखा, अच्छा मजबूत दोषयुक्त सूर्य क्षेत्र तथा श्रेष्ठ अन्य रेखाएं जातक को प्रशासन संबंधी कार्यों अर्थात आई.ए.एस. ऑफिसर आदि की ओर ले जाने का संकेत करती हैं ।।

प्रारम्भ के समय मस्तिष्क रेखा एवं जीवन रेखा थोड़ा गैप लेकर चले तथा मस्तिष्क रेखा के अंत में कोई फोर्क (द्विशाखा) हो, कनिष्ठा का पहला पोरा लम्बा एवं मजबूत हो तथा अच्छा बुध, तीन खड़ी लाइन युक्त हो तथा मजबूत अंगूठे का दूसरा पोरा सबल हो तो यह न्याय के क्षेत्र अर्थात वकालत या जज बनाता या उस क्षेत्र में ले जाने का संकेत है ।।

मजबूत शनि, लम्बी गहरी मस्तिष्क रेखा, लम्बी एवं गांठदार अंगुलियां जातक का रूझान मशीनरी क्षेत्र में ले जाती हैं । लम्बी शनि अंगुली, सबल एवं लम्बा दूसरा पोरा तथा सख्त हाथ कृषि की तरफ रूझान देता है ।।

लम्बी एवं शाखा युक्त मस्तिष्क रेखा जिसकी एक शाखा बुध पर जाए, विकसित बुध तथा शुक्र तथा सूर्य एवं अच्छा चन्द्र और लम्बी कनिष्ठा अंगुली ऐक्टिंग के क्षेत्र में लेकर जाती है ।।

अंगुलियों की तुलना में हथेली लम्बी हो, कोणाकार अंगुलियां हो, मस्तिष्क एवं जीवन रेखा में प्रारम्भ से ही गैप तथा शाखा युक्त मस्तिष्क रेखा एवं शुक्र तथा चन्द्र पर्वत अच्छा हों ।।

अच्छा बुध पर्वत, सूर्य एवं अच्छी भाग्यरेखा तथा मजबूत अंगूठा एवं अंगुलियों की सबल विकसित दूसरी गांठ हो तो ऐसा व्यक्ति एकाउंटेंट होता है । जिसकी लम्बी कनिष्ठा, उठा हुआ शुक्र तथा तर्जनी का विकसित एवं मोटा तीसरा पोरा हो तो ऐसे लोग पाकशास्त्री होता है ।।

लचीला अंगूठा, लचीली एवं हथेली की तुलना में लम्बी अंगुलियां जिसकी हो तो वो जातक अच्छा डान्सर होता है । लम्बा अंगूठा, तर्जनी का लम्बा दूसरा पोर, वर्गाकार हथेली, अच्छी गांठें, अंगुलियों की वर्गाकार नोक, विकसित शनि एवं लम्बी मध्यमा तथा मस्तिष्क रेखा एवं अच्छा बुध इंजीनियरिंग के लिए उपयुक्त होता है ।।

अच्छी एवं सफेद धब्बे युक्त मस्तिष्क रेखा तथा अच्छे बुध पर त्रिकोण का चिह्न अनुसन्धान क्षेत्र में ले जाने के लिए उचित होता है अर्थात वैज्ञानिक बनाता है । अच्छे बुध पर तीन-चार खड़ी लाइनें, लम्बी एवं गांठदार अंगुलियां और वर्गाकार हथेली तथा अच्छी भाग्य रेखा चिकित्सा क्षेत्र के लिए उपयुक्त होता है ।।

लम्बा एवं सख्त मजबूत अंगूठा, उन्नत शुक्र एवं मंगल अच्छी सूर्य एवं भाग्य रेखा तथा वर्गाकार या चमसाकार अंगुलियां सैन्य सेवा के लिए अच्छी होती हैं । इसके साथ ही यदि मंगल अति विकसित एवं सख्त हो तो थल सेना के लिए उपयुक्त होता है ।।

यदि उक्त स्थितियों के साथ ही यदि विकसित बृहस्पति एवं मजबूत तथा थोड़ा सा अन्तराल लिए मस्तिष्क रेखा एवं जीवन रेखा का आरम्भ हो तो हवाई सेना के लिए हस्तरेखा की ऐसी स्थितियां बहुत ही अच्छी मानी जाती हैं ।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं - Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज - My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call: +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.