Tantra Totake

जिन महिलाओं को अपने पति पर शक हो । कुँवारी लड़कियों के विवाह में बिलम्ब हो रहा हो । Women who suspect their husbands. unmarried Girls are having marriage problems.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, वो महिलायें जिन्हें अपने पति पर शक हो । वह महिलायें अपने शादी के समय पर पति के लिये जो वस्त्र उपहार में पिता के परिवार से मिले थे । उनमें से किसी भी एक वस्त्र में एक जोड़ा तीन मुखी तथा एक जोड़ा सात मुखी असली नेपाली रुद्राक्ष बाँधकर किसी भी गुरुवार के दिन अपनी कपड़ों की आलमारी अथवा सन्दूक में रख दें ।।

शादी की सालगिरा वाली तिथि को इन वस्त्रों में एक जोड़ा लवंग डाल दें । ये काम आपको प्रतिवर्ष इसी दिन करना है । इस प्रयोग से आपके विवाह संबंधों में बढ़ती दूरियाँ तो कम होंगी ही, साथ ही आपका पति चाहकर भी किसी परायी औरत के साथ किसी भी प्रकार का गलत सम्बन्ध नहीं बना पायेगा ।।

आप इस प्रयोग को अपने शादी की सालगिरह से शुरू करके हर वर्ष करें । आपको आपके जीवन में इस विषय को लेकर कोई चिंता फिर करने की आवश्यकता नहीं रह जाएगी । अगर ऐसा कुछ आपके पति के जीवन में होगा भी तो उनका ध्यान बिलकुल उधर जायेगा ही नहीं, बल्कि हमेशा के लिये इस प्रकार के आचरणों से विरक्ति सी हो जाएगी ।।

जिन कुँवारी लड़कियों के विवाह में बिलम्ब हो रहा हो, शादी में अड़चने आ रही हो । फिर चाहे किसी भी कारणवश ऐसा हो, किसी भी प्रकार की समस्या क्यों न हो । कन्या का विवाह बिना किसी रूकावट के शीघ्र ही हो जाय इसके लिये इस आसन से टोटके को करें । करना ये है, कि किसी भी प्रतिष्ठित शिवलिंग पर गौमुखी शंख से 21 बार “ॐ नम: शिवाय” इस मन्त्र का उच्चारण करते हुए जल चढ़ाना है ।।

ये जल अर्घ्य देने की मुद्रा में शिवलिंग पर चढ़ाना है । अन्तिम जल की धारा न देकर कन्या को स्वयं उस जल को ग्रहण करना है । इसके बाद भगवान शिव की सिर्फ एक और वो भी उल्टी परिक्रमा करनी है । ये टोटका केवल कुँवारी कन्याओं के लिये है । इस टोटके को सप्ताह में सिर्फ एक दिन “सोमवार” को करना है । इसके करने मात्र से बड़ी-से-बड़ी मुश्किल आसान हो जायेगी और विपरीत परिस्थितियों में भी विवाह शीघ्रातिशीघ्र हो जायेगा वो भी आसानी से ।।

मित्रों, जिनका दाम्पत्य जीवन सुखी नहीं है, आपसी कलह के वजह से घर में नित्य ही नयी-नयी परेशानियों का आगमन होते रहता है । इतना ही नहीं घर के झगड़े के वजह से तलाक एवं आत्महत्या जैसी परिस्थितियाँ बन जाती है । तो आप ये आसान सा टोटका करके अपने लिये अपनी जिन्दगी में नयी सुबह की शुरुआत कर सकते हैं ।।

आप अगर अपने दैनिक जीवन में होनेवाले पति-पत्नी के झगड़ों को शान्त करना चाहते हैं तो एक न्र-मादा सियार-सिंगी का जोड़ा एक स्टील की डब्बी में रखें सबकुछ अतिशीघ्र ही सामान्य हो जायेगा ।।

(सियार-सिंगी क्या है - सामान्तया इसे गीदड़-सिंगी अथवा सियार सिंगी कहते है । सियार एक वनचर जीव होता है । इसके सिर पर एक गांठ होती है । यह गांठ सभी सियारों के सिर पर न होकर किसी-किसी सियार के ही सिर पर पायी जाती है । शिकारी लोग ऐसे सियार को पहचान कर मार डालते है । उसका सिंग (सियार सिंगी) प्राप्त कर लेते है । आकर में ये छोटी बड़ी, चपटी – गोल किसी भी तरह कि हो सकती है । मगर आँवले से ज्यादा बड़ी नहीं होती है ।।)

मित्रों, इस विडियो में जन्मकुण्डली के दशम भाव में वर्णित कर्म योग एवं कर्म हीन योग जो वृहत्पाराषर होराशास्त्र के नवम भाव फलाध्याय ८ श्लोकों (श्लोक नम्बर 213 से 220 तक) में वर्णित है । तो आइये जानें कर्म योग एवं कर्म हीन योग के विषय में विस्तृत रूप से इस विडियो टुटोरियल में - https://youtu.be/upSNEAhWyY4



Thank's & Regards. / Astro Classes, Silvassa.
balajivedvidyalaya@gmail.com / +91-8690522111.
Balaji Veda, Vastu & Astro Classes, Silvassa.
www.astroclasses.com

Office - Shop No.-04, Near Gayatri Mandir, 


Mandir Faliya, Amli, Silvassa. 396 230.

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.