Tantra Totake

बगलामुखी प्रचण्ड साधना, कृपया कमजोर दिल के साधक और महिलाएं अथवा बच्चे इस पोस्ट से दूर रहें ।। Bagalamukhi Prachanda Sadhana.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,


मित्रों, बगलामुखी साधना स्तम्भन की सर्वश्रेष्ठ साधना होती है । कोई पैसा खाकर बैठ गया हो और बहुत ज्यादा स्मार्ट बनता हो एवं आपको परेशान कर रहा हो । कोई बहुत बड़ा शत्रु हो और कोर्ट-कचहरी के चक्कर में आपको परेशान कर रहा हो तो यह साधना कर सकते हैं ।।

किसी को वश में (सम्मोहित) करना हो, किसी को पागल बनाना हो या फिर शत्रु बाधा अत्यधिक बढ़ गयी हो अथवा अगर आप चुनाव लड़ रहे हों और आपको विजय चाहिये तो आप पब्लिक को लुभाने के लिए तथा विजय प्राप्ति के लिए आप इस साधना को कर सकते हैं ।।

इसकी साधना की विधि अत्यन्त सरल है परन्तु इससे आप किसी को भी पागल तक बना सकते हैं । सबसे पहले एक माँ बगलामुखी की तस्वीर को एक पाटले पर स्थापित करके पीला वस्त्र, पीला आसन, साधना का कक्ष एकान्त में होना चाहिए जिसमें पुरे साधना काल में आपके अलावा कोई और नहीं जा सके ।।

हो सके तो पुरे कमरे का कलर भी पीला करवा लेवें बल्ब भी पीले कलर का ही रखें । ब्रह्मचर्य का तो पालन अनिवार्य ही होता है बल्कि इतना ही नहीं हो सके तो साधनाकाल में प्रत्येक स्त्री को मातृवत मानकर सम्मान दें ।।

मित्रों, जप हेतु प्रयोग की जाने वाली माला हल्दी या पिली हकिक की हो जिससे जप करना होगा । यदि व्यवस्था न हो पाए तो रुद्राक्ष की माला से भी जप कर सकते हैं । उत्तर दिशा की ओर मुँह करके ही जप करें श्रेष्ठ होता है ।।

किसी तांत्रिक गुरु से बगलामुखी की दीक्षा लेकर ही साधना करना श्रेष्ठ होता है । प्रथम दिन जप से पहले हाथ में जल लेकर संकल्प करें इस प्रकार बोलें कि "मैं (आपका नाम) अपनी (इच्छा बोलें) की पूर्ति के लिए यह जप कर रहा हूँ । हे माँ आप कृपा करके हमारी इस  इच्छा को पूर्ण करें" ।।

मित्रों, किसी भी प्रकार की साधना हेतु गुरु कृपा आवश्यक होता है । इसलिये सर्वप्रथम अपने गुरु मंत्र की एक माला जप करें फिर बगला मंत्र का जप करें । अन्त में पुनः अपने गुरु मंत्र की एक माला जप करें ।।

मित्रों, हो सके तो इस साधना को नवरात्री में करें और नौ दिन में कम से कम २१ हजार मन्त्र का जप करें । अगर आप जितना अधिक कर सकें (अधिकस्य अधिकं फलम्) इसलिए ज्यादा कर सकें तो और अच्छा है ।।

एक बात का विशेष रूप से ध्यान रखें, जब भी आप जप करने बैठें अपने सामने कोई माला अथवा कोई अंगूठी जिसे आप सदैव धारण करके रख सकें उसे अपने सामने रख कर मन्त्र जप करें । ऐसा करने से वह मंत्रसिद्ध हो जायेगा और भविष्य में रक्षाकवच जैसा कार्य करेगा ।।

इस मन्त्र से माताजी का ध्यान करें:-

सौवर्णामनसंस्थितां त्रिनयनां पीतांशुकोल्लासिनीम् ।
हेमावांगरुचिं शशांक मुकुटां सच्चम्पकस्रग्युताम् ।।
हस्तैर्मुद्गर पाशवज्ररसना सम्बिभ्रति भूषणै ।
व्याप्तांगिं बगलामुखी त्रिजगतां सस्तम्भिनौ चिन्तयेत् ।।

अथ मंत्र:-
ॐ ह्रीं बगलामुखी सर्व दुष्टानां वाचं मुखं पदं स्तम्भय जिह्वाम् कीलय बुद्धिम् विनाशय ह्रीं फट स्वाहा ।।

विशेष चेतावनी - बगलामुखी प्रचंड महाविद्या हैं, कमजोर दिल के साधक और महिलाएं अथवा बच्चे बिना गुरु की अनुमति और सानिध्य के यह साधना कदापि न करें । इससे होनेवाले हानी-लाभ से हमारा कोई वास्ता नहीं है ये शास्त्रों की बातें हैं ।।

==============================================

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

==============================================

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

==============================================

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केंद्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap+ Viber+Tango & Call: +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

Website :: www.astroclasses.com
www.astroclassess.blogspot.com
www.facebook.com/astroclassess

।। नारायण नारायण ।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.