Astro Articles

कुछ अत्यंत प्रभावी टिप्स ।। Some extremely effective tips.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,


१.वास्तु दोष निवारण टिप्स ।।
२.गृह क्लेश एवं दरिद्रता निवारण टिप्स ।।
३.शत्रु पर विजय प्राप्ति टिप्स ।।
४.नजर दोष निवारण टिप्स ।।
५.आर्थिक स्थिति में सुधार हेतु टिप्स ।।
६.परीक्षा में सफलता प्राप्ति टिप्स ।।
७.कर्ज मुक्ति हेतु टिप्स ।।

मित्रों, आइये सर्वप्रथम हम अपने पहले टिप्स जो कि "वास्तु दोष निवारण टिप्स" है, उसके विषय में चर्चा करते हैं । आप सभी को पता होगा कि जब ब्राह्मणों द्वारा हमारे नूतन घर में गृह प्रवेश करवाया जाता है....

तो वहां वास्तु के यन्त्रादि (जैसे- मत्स्य, कुर्म, नागादि) का पूजन करवाकर आँगन के बीच में दबाया जाता हैं । अगर आपके घर में ऐसा न हुआ हो अथवा संभव न हो (जैसे- फ्लैट आदि में) और आपके घर में बहुत सी परेशानियाँ आ रही हों....

तो अपने घर की सुरक्षा के लिए वास्तु यंत्र की पूजा किसी शुभ मुहूर्त में करें और वास्तु मन्त्र (ॐ वास्तोष्पतये नम:) का 51 बार जप करें और अपने आंगन में दबा दें । ऐसा संभव न हो तो घर में लगे किसी पौधे के गमलों में दबा दें ।।


मित्रों, ये शास्त्रानुसार प्रमाणिक कार्य है, ये कार्य ऐसा कोई तांत्रिक अथवा गलत कार्य नहीं है ऐसा करने से आपका घर हर प्रकार से सुरक्षित हो जायेगा । परन्तु इसमें आपकी श्रद्धा एवं पूर्ण समर्पण भाव का होना आवश्यक है ।।

दूसरा टिप्स है "गृह क्लेश एवं दरिद्रता निवारण टिप्स" । मित्रों, हर घर में लगभग गृह क्लेश होता ही है । इस प्रकार के दुख, दरिद्रता आदि समाप्त हों इसके लिए बाजार में मिलने वाला "ताम्रपत्र पर वास्तु यंत्र"....

इस यन्त्र को लेकर केसर से घर के सभी सदस्यों का नाम लिखें और वास्तु मन्त्र (ॐ वास्तोष्पतये नम: अथवा वास्तु के वैदिक मन्त्र) का ग्यारह बार जप करें । कर्पुर की अग्नि में डाल दें आपे सभी प्रकार के क्लेश, दुख, दरिद्रता आदि का नाश हो जाएगा ।।

मित्रों, आइये अब हम अपना तीसरा टिप्स "शत्रु पर विजय प्राप्ति टिप्स" के विषय में जानें । मुकदमे में सफलता प्राप्ति एवं शत्रु पक्ष को निर्बल करने के लिए एक कागज पर हल्दी से "बगलामुखी मंत्र" लिखें ।।

फिर माता बगलामुखी का ध्यान करते हुए उस हल्दी को उसी कागज में मौली से बांध दें । मन्त्र का 41 बार जप करें, मंत्र- ऊँ ह्रीं बगलामुखी सर्वदुष्टानां वाचं मुखं पदं स्तम्भय जिह्नां कीलय बुद्धिं नाशय ह्रीं ऊँ स्वाहा ।।

ऐसा पांच दिन तक करें और शुभ मुहूर्त में यन्त्र को माँ दुर्गा के मंदिर में समर्पित कर दें । इस मन्त्र का इतना प्रभाव है, कि आपका काम हो ही जायेगा इसमें कोई संसय नहीं है बश मन में पूर्ण श्रद्धा का होना जरुरी है ।।

मित्रों, अब हम "बुरी नजर दोष निवारण टिप्स" जो कि आज का हमारा चौथा टिप्स है, के विषय में चर्चा करते हैं । अपने घर परिवार को बुरी नजर से बचाने के लिए किसी त्यौहार के दिन मुख्य दरवाजे पर स्वस्तिक बनायें ।।


पुरे दिन ध्यान रखें बिगड़े नहीं और रात्रि को उसके बीच में एक सरसों के तेल का दीप जलाकर रखें । दीप जब पूरा-पूरा जल जाए उसके बाद उसे किसी चौराहे पर अथवा रास्ते में रख दें बुरी नजर का प्रभाव दूर हो जाएगा ।।

मित्रों, अब आपकी "आर्थिक स्थिति में सुधार हेतु टिप्स" के विषय में बात करते हैं । यदि आर्थिक स्थिति खराब हो तो शुक्रवार (शुक्ल पक्ष) को एकाक्षी नारियल पर सिंदूर, धूप, दीप, नैवेद्य चढ़ा कर लाल वस्त्र में बांधकर....

उसे लेकर माता महालक्ष्मी के मन्दिर जाएँ और आर्थिक स्थिति में सुधार हेतु माँ से प्रार्थना करें । लक्ष्मी चालीसा का पाठ करें व एकाक्षी नारियल को वापस लाकर अपने व्यवसाय स्थल पर रख दें ।।

मित्रों, आजकल टीवी के वजह से बच्चों का पढाई में मन नहीं लगता । परिणाम ये होता है, कि अधिकांश बच्चे परीक्षा में फेल हो जाते हैं । तो अब मैं आपलोगों को "परीक्षा में सफलता हेतु टिप्स" बताता हूँ ।।

यदि आपके बच्चे का परीक्षा में अंक अच्छे नहीं आते बार बार फेल हो जाता हो तो गुरु-पुष्य योग जो शुक्ल पक्ष के बुधवार को हो भगवान गणपति के मंदिर में बच्चे के हाथ से सिंदूर का दान करवायें ।।


यह निश्चित है कि श्रद्धा विश्वास के साथ ऐसा उपाय करने से परीक्षा में परिश्रम से अधिक सफलता प्राप्त होगी । साथ साथ पढ़ाई करना तो आवश्यक है ही परन्तु भगवान गणपति उस बच्चे की सहायता अवश्य ही करेंगे ।।

मित्रों, आइये अब अंत में अपने सातवें "कर्ज मुक्ति हेतु टिप्स" आपलोगों को बताते हैं । यदि आप लगातार कर्जों से परेशान हों या व्यवसाय में बाधा आ रही हो या किसी भी प्रकार आय में वृद्धि नहीं हो पा रही हो.....

तो इसके लिए "ऋणमोचन मंगल स्तोत्र" से बेहतर विकल्प और कुछ भी नहीं है । जिस दिन "पुष्य नक्षत्र" हो अथवा "सर्वार्थ अमृतसिद्धि योग" हो उस दिन इस स्तोत्र का पाठ हनुमान जी का पूजन करके करें । निश्चित रूप से आप की ये समस्या दूर हो जाएगी ।।

==============================================

भेरी योग एवं उसके फल - बृहत्पाराशर होराशास्त्रम् के 19वें अध्याय में वर्णित अनेकयोगाध्यायः में ज्योतिष के सभी महत्वपूर्ण योगों का विस्तृत वर्णन किया गया है । जातक के जीवन में इन योगों का क्या असर होता है, इस बात का विस्तृत वर्णन हम कर रहे हैं । तो आइये जानें इस विडियो टुटोरियल में भेरी योग एवं उसके फल के विषय में - https://youtu.be/3ECB7BGqEKY

==============================================

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

==============================================

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

==============================================

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केंद्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap+ Viber+Tango & Call: +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

Website :: www.astroclasses.com
www.astroclassess.blogspot.com
www.facebook.com/astroclassess

।। नारायण नारायण ।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.