Vastu Articles

दुर्भाग्य दूर करने का आसन उपाय घंटी (विंड चाइम्स) ।।



दुर्भाग्य दूर करने का आसन उपाय घंटी (विंड चाइम्स) ।। Unfortunately it keeps the Wind chimes.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,


मित्रों, आपने अक्सर किसी-किसी के घर पर काँच की, लकड़ी की अथवा मिटटी का भी घंटी जैसा टंगा हुआ देखा होगा ? इसमें चार पतली-पतली पाइप और बीच में कुछ ऐसा जो हिलने पर घंटियों जैसी आवाज करती है, होता है ।। अक्सर इसे देखते ही मन में प्रश्न उठता है, कि आखिर ये हैं क्या ? तो आज मैं आपलोगों को बताता हूँ कि इसमें क्या रहस्य होता है ? इसके रखने के पीछे की सच्चाई क्या है और इससे फायदा क्या होता है ?।।

मित्रों, असल में ये है तो हमारी ही विद्या, हमारे ही ऋषियों द्वारा अन्वेषित ये एक विज्ञान है जो सकारात्मक उर्जा उत्पन्न करती है । जैसे घरों के दरवाजे पर छोटी-छोटी घंटियाँ लटकाना, घरों में सिकहर पर दूध एवं छाछ की मटकियों को रखना ।।


झूले झुलना, तोते पलना, चिड़ियों के लिए मिटटी के बर्तनों में दाना-पानी लगाना आदि-आदि । इसके अलावे घंटा जैसे बड़े-से-बड़े घंटा एवं छोटी-से-छोटी घंटियाँ हर घरों में लगभग मिलती ही थी ।।


आज इसी बात को तोड़-मरोड़ कर चाइना ने हमारे सामने फेंगशुई नाम की विद्या के रूप में हमें ही बेचना शुरू कर दिया । क्योंकि हमारी आदत सी बन गयी है कुछ नया सुनने की क्योंकि हमारे शास्त्रों की बातें हमें पुराणी लगने लगी है ।। इसमें हमारा ही नुकशान है जिसका फायदा दुसरे लोग उठा लेते हैं । परन्तु सच्चाई आज भी वहीँ-की-वहीँ खड़ी है । आज भी इससे ज्यादा प्रभावी हमारे सनातन व्यवस्था के अनुसार प्रचलित घंटियाँ ही है जो हमें इससे भी ज्यादा सकारात्मक उर्जा प्रदान करने में सक्षम हैं ।।

चलिये कोई बात नहीं आपलोगों को इसके विषय में भी बता देते हैं जिसे चाइना की भाषा में विंड चाइम्स कहते हैं । इन घंटियों के प्रयोग से सकारात्मक ऊर्जा की घर में वृद्धि होती है ।।


इन घंटियों द्वारा उत्पन्न ऊर्जा हमारे भवन की नकारात्मक ऊर्जा का शमन करके दुर्भाग्य को मिटाती है । ये घंटियां अनेक छड़ो से मिलकर बनती है, जैसा कि मैंने बताया ये घंटी धातु, मिटटी अथवा लकड़ी की भी बनती है ।।
मित्रों, यदि इसको घर के मुख्य द्वार पर लगाया जाय तो वास्तु दोष का निवारण हो जाता है अर्थात नकारात्मक उर्जा घर में प्रवेश ही नहीं कर पाती है । इस विंड चाइम्स को दरवाजे पर परदे के पास भी लगा सकते हैं ।।

इसे जब भी अपने परदे के पास लगायें तो ये ध्यान रखें कि द्वार में प्रवेश करने वाले व्यक्तियों से वह टकराये । और जैसे ही कोई भी उससे टकरायेगा तो वह मधुर ध्वनि उत्पन्न करेगा जिससे वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा की वृद्धि होती है ।।

मित्रों, इसमें जो पांच छड वाली घंटी होती है उसका प्रयोग आप बच्चों के अध्ययन कक्ष में कर सकते हैं । यदि अध्ययन कक्ष में छत के नीचे बीम हो तो बीम के पास पांच छड़ो वाली इस घंटी को लगाना चाहिए ।।

अध्ययन कक्ष के द्वार पर भी पांच छड वाली विंड चाइम्स ही लगाना चाहिए । इससे उस कक्ष का वास्तु दोष भी नियन्त्रित होता है और अध्ययन रत बच्चों का मन भी अपने विषय पर केन्द्रित रहता है और उनका दिमाग भी विकसित होता है ।।
मित्रों, आप अपने ड्राइंगरूम में छह छड वाली घंटी का उपयोग कर सकते हैं । ड्राइंगरूम में इसे वहां लगाना चाहिए जंहा से आगुन्तको का प्रवेश होता है । इससे आने वाले अतिथि का व्यवहार आपके अनुकूल रहेगा ।।

घर के बड़े बच्चों अथवा नौकरों के कमरों में सात छड़ो वाली घंटी का उपयोग करना शुभ होता है । इससे बच्चे तथा नौकर सदैव आपके आज्ञाकारी बने रहेंगे । इससे आपके बच्चे लापरवाह एवं मनमर्जी करने वाले नहीं होंगे ।।


मित्रों, यदि बच्चों का कमरा गलत दिशा में बना हुआ हो तो भी इस सात छड़ों वाली घंटी का प्रयोग कर सकते हैं । बच्चों के कमरे के द्वार के पास इसे लटकाकर वहाँ का वास्तु दोष दूर कर सकते है ।।

आठ छड वाली विंड चाइम्स का प्रयोग कार्यालय में जिस स्थान पर आप बैठते हों, वंहा पर कर सकते हैं । यदि आपका मन काम में नहीं लग रहा हो, अथवा कार्य क्षेत्र में प्राय: रुकावटें एवं नाना प्रकार की बाधाए उत्पन्न हों...
तो अपने कार्यालय के मुख्य द्वार पर यह आठ छड वाली विंड चाइम्स लटकानी चाहिए । इसका प्रयोग दरवाजे के अंदर परदे के पास लटका कर करना चाहिए । यदि परिवार में सभी व्यक्तियों को बार बार रूकावटों...

अथवा अनेक प्रकार की बाधाओं के कारण निराशा एवं उत्साहहीनता जैसी स्थिति बन रही हो तो नौ छड वाली विंड चाइम्स का प्रयोग ड्राइंगरूम में करना चाहिए । इसके प्रभाव से मानसिक परेशानी तो दूर होगी ही....


साथ हो आमदनी के नए मार्ग भी खुलेंगे और जीवन में नया उत्साह बनने लगेगा । एक और होता है "गुड लक बेल" जो कई प्रकार के डिजाइनों में आता है । इसमें इसे ऊपर टांगने के लिए लाल धागा लगा होता है ।।


इसमें नीचे लाल धागे की टसल लगी हुई होती है । इसके ऊपर चीनी देवता, बुद्धा, कुआनायिन, पगोड़ा या कोई और शुभ चिन्ह भी बना होता है । यह यांग ऊर्जा की प्रतीक होता है ।।
चाइना की मान्यता के अनुसार यह मनुष्य के सौभाग्य के लिए अच्छा माना जाता है । "गुड लक बेल" को हम घर, ऑफिस या दूकान के किसी भी भाग में लगा सकते है यह भाग्य वृद्धि करने वाला होता है ।।

=============================================
  
वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।। किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

==============================================

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call:   +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com


।।। नारायण नारायण ।।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.