Copy
Astro Articles

चतुर्थ "शंखपाल" नामक कालसर्प योग ।।



कालसर्प दोष के सभी भेदों में से चौथे ''शंखपाल नामक कालसर्प दोष'' को उदाहरण सहित कुंडली प्रस्तुत करते हुए समझाने का प्रयास कर रहे है शायद आपलोगों को अच्छी तरह समझ में आये ।।

चतुर्थ "शंखपाल" नामक कालसर्प योग ।। 4.Shankhapaal KaalSarpa Dosha.



राहु चौथे स्थान में और केतु दशम स्थान में हो और इसके बीच सारे ग्रह हो तो शंखपाल नामक कालसर्प योग बनता है । इससे घर-द्वार, जमीन-जायदाद व चल- अचल संपत्ति सम्बन्धी थोड़ी बहुत कठिनाइयां आती हैं और उससे जातक को कभी-कभी बेवजह चिंता घेर लेती है तथा विद्या प्राप्ति में भी उसे आंशिक रूप से तकलीफ उठानी पड़ती है ।।

जातक को माता से कोई, न कोई किसी न किसी समय आंशिक रूप में तकलीफ मिलती है । सवारी एवं नौकरों की वजह से भी कोई न कोई कष्ट होता ही रहता है । इसमें उन्हें कुछ नुकसान भी उठाना पड़ता है । जातक का वैवाहिक जीवन सामान्य होते हुए भी वह कभी-कभी तनावग्रस्त हो जाता है ।।

चंद्रमा के पीड़ित होने के कारण जातक का समय-समय पर मानसिक संतुलन भी खो जाता है । कार्य के क्षेत्र में भी अनेक विघ्न आते ही रहते हैं । पर वे सब विघ्न कालान्तर में स्वत: नष्ट हो जाते हैं । बहुत सारे कामों को एक साथ करने के कारण जातक का कोई भी काम प्राय: पूरा नहीं हो पाता है ।।

इस योग के प्रभाव से जातक का आर्थिक संतुलन बिगड़ जाता है, जिस कारण आर्थिक संकट भी उपस्थित हो जाता है । लेकिन इतना सब कुछ हो जाने के बाद भी जातक को व्यवसाय, नौकरी तथा राजनीति के क्षेत्र में बहुत सफलताएं प्राप्त होती हैं एवं उसे सामाजिक पद प्रतिष्ठा भी मिलती है ।।

यदि उपरोक्त परेशानी महसूस करते हैं तो निम्नलिखित उपाय करें । अवश्य ही लाभ मिलेगा ।।

दोष निवारण के कुछ सरल उपाय:-

१.शुभ मुहूर्त में मुख्य द्वार पर चांदी का स्वस्तिक एवं दोनों ओर धातु से निर्मित नाग चिपका दें ।।

२.नीला रुमाल, नीला घड़ी का पट्टा, नीला पैन, लोहे की अंगूठी धारण करें ।।

३.शुभ मुहूर्त में सूखे नारियल के फल को जल में तीन बार प्रवाहित करें ।।

४.हरिजन को मसूर की दाल तथा द्रव्य शुभ मुहूर्त में तीन बार दान करें ।।

५.शनिवार का व्रत करें और राहु, केतु व शनि के साथ हनुमान जी की आराधना करें । लसनी, सुवर्ण, लोहा, तिल, सप्तधान्य, तेल, धूम्रवस्त्र, धूम्रपुष्प, नारियल, कंबल, बकरा, शस्त्र आदि एक बार दान करें ।।

इस प्रकार के छोटे-छोटे उपायों से इस प्रकार के दोषों से छुटकारा मिलता है और जीवन में सुख-शान्ति तथा व्यवसाय में उन्नति प्राप्त होती है ।।


  
वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।


संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call:   +91 - 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com


।।। नारायण नारायण ।।।

बालाजी वेद, वास्तु एवं ज्योतिष विद्यालय, सिलवासा ।।

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

0 comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

BALAJI VED VIDYALAYA, SILVASSA.. Powered by Blogger.